Online Payment Fraud 2023: पांच ऐसे तरीके जिसके माध्यम से ऑनलाइन घोटाले होते हैं, इससे बचने के लिए अपनाएं ये जरूरी टिप्स !

Online Payment Fraud 2023: Online payment माध्यम एक ओर जहां हमारे लिए काफी सुविधाजनक साबित हो रहे हैं ,वहीं यह कई बड़ी धोखेबाजी और धोखाधड़ियों का कारण भी बन रहे है । जैसा कि हम सब जानते हैं समय के साथ-साथ जितनी सुविधाएं मिल रही हैं उतना ही उन सुविधाओं के साथ नुकसान भी बढ़ रहे हैं । ऐसे में जहां एक ओर ऑनलाइन भुगतान लोगों को वित्तीय लेनदेन की सुविधा उपलब्ध करा रहा है वहीं दूसरी और इससे जुड़ी धोखाधड़ी और घोटाले बढ़ते जा रहे हैं ।

Online Payment Fraud 2023

आज के इस दौर में हम रोजाना ऐसी कितनी ही खबरें सुनते हैं जहां से हमें पता चलता है कि पढ़े-लिखे लोग भी ऑनलाइन धोखाधड़ी के शिकार हो जाते हैं।  ऐसे में लोग अपनी मेहनत की कमाई से लेकर जमा पूंजी तक गंवा देते हैं। कई बार तो लोग अपनी छोटी-मोटी गलतियों की वजह से ठगे जाते हैं और कई बार उनके साथ ऐसे अलग प्रकार के फ्रॉड होते हैं जो उन्हें पता भी नहीं चलते । आजकल साइबर क्राइम भी बढ़ता जा रहा है , ऐसे में साइबर क्रिमिनल्स के लिए इस प्रकार की धोखाधड़ी करना काफी आसान हो गया है । डिवाइसेज को हैक करने से लेकर वित्तीय जानकारी चुरा लेना और उनका इस्तेमाल कर ट्रांजैक्शंस करना काफी आम बात हो गई है । वहीं समय के साथ पेमेंट मेथड में क्यूआर कोड, ओटीपी फैसिलिटी आने की वजह से इस प्रकार की चोरी और भी आसान हो गई है।

 यदि आप भी अपने साथ इस प्रकार के किसी घोटाले को भविष्य में रोकना चाहते हैं तो आपके लिए भी यह जरूरी है कि इन सभी प्रकार की धोखाधड़ी को लेकर आप जागरूक हो जाए क्योंकि आपकी जागरूकता ही आपको इस प्रकार की धोखाधड़ी से बचा सकती है। आज के इस लेख में हम आपको बताने वाले हैं ऑनलाइन माध्यम से पेमेंट को लेकर होने वाले घोटालों के कुछ तरीकों के बारे में, इसके बारे में जानकर आप आसानी से इन घोटालों से भविष्य में बच सकते हैं।

Online Payment Fraud 2023 min
Online Payment Fraud 2023

7th Pay Commission New Year Gift 2024: केंद्रीय कर्मचारियों को नए साल का मिलेगा बड़ा तोहफा, महंगाई भत्ते में 4% तक की बढ़ोतरी

NTA Exam Calendar 2024 [एनटीए एक्जाम कैलेंडर] CUET, NET, NEET, JEE and Other Exam Date and Schedule

1. Phising Theft फिशिंग हमले: 

फिशिंग हमले बिल्कुल इस तरह से है जैसे मछली पकड़ने वाला मछुआरा मछली पकड़ने की छड़ में चारा लगा देता है और उसे पता होता है कि कोई ना कोई मछली आकर जरूर फंसेगी ,इसी प्रकार फिशिंग हमले होते हैं । फिशिंग हमले में धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति ईमेल, मैसेज ,विज्ञापन साइट का इस्तेमाल करता है और आपको विभिन्न प्रकार के मैसेज या ईमेल भेजता है जिसमें आपसे आपकी निजी या वित्तीय जानकारी मांगी जाती है। कई बार आपको किसी प्रकार के सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के लिए कहा जाता है । इसके अलावा कई बार तो यह स्कैमर आपको जॉब भी ऑफर करते हैं जहां आप अपनी महत्वपूर्ण और निजी जानकारी भरोसे के चलते शेयर कर देते हैं। ऐसे में आपके द्वारा उपलब्ध कराई गई इस जानकारी का वह गलत तरीके से इस्तेमाल करते हैं और आपको ठग लेते हैं।

 फिशिंग हमला आम तौर पर विश्वास जागृत करने के पश्चात ही होता है । जहां एक बार आपके अंदर विश्वास बना दिया जाता है और आप उस भरोसे में आकर अपनी सारी महत्वपूर्ण जानकारियां शेयर कर देते हैं । ऐसे में कई बार व्यक्ति पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड, बैंक खाता संख्या इत्यादि शेयर कर देता है जिसकी वजह से फंसा कर ऑनलाइन माध्यम से वित्तीय धोखाधड़ी कर सकते हैं।

2. Identity Theft आइडेंटिटी थेफ्ट:

आईडेंटिटी थेफ्ट मतलब पहचान की चोरी । आइडेंटिटी थेफ्ट में इंटरनेट और अन्य तकनीक का इस्तेमाल कर व्यक्ति की व्यक्तिगत जानकारी निकाली जाती है।  ऐसे में स्कैमर्स आराम से किसी भी व्यक्ति के डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड को चोरी कर खाते की जानकारी निकाल लेते हैं । वही इसका इस्तेमाल कर वे पैसों का ट्रांजैक्शन करते हैं जिससे आपको काफी बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है । वही इसका दूसरा तरीका है pretexting  ,प्रिटेक्सटिंग अर्थात व्यक्ति से किसी प्रकार के बहाने उसकी महत्वपूर्ण जानकारी निकलवा लेना जैसे की खाता संख्या या उसकी संवेदनशील जानकारी और उसका उपयोग गलत ढंग से करना।  इसके अलावा आईडेंटिटी थेफ्ट में चेक की चोरी, फोन सेवा धोखाधड़ी ,धोखे से पता बदलने जैसे तरीके भी इस्तेमाल किए जाते हैं।

3. फर्जी डिलीवरी ओटीपी घोटाला:

आजकल हम देखते हैं कि हम विभिन्न प्रकार की ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं।  इस ऑनलाइन शॉपिंग के माध्यम से कई बार ई-कॉमर्स प्लेटफार्म हमें ओटीपी उपलब्ध कराता है । हालांकि यह ओटीपी ग्राहकों को सुरक्षित डिलीवरी प्रदान करने के लिए शुरू की गई है। परंतु इसका इस्तेमाल करके भी कई सारे धोखेबाज ग्राहकों के खातों से पैसा चुराने में कामयाब हो जाते हैं। इस तरीके में वे लोग ग्राहक के पास में फर्जी डिलीवरी करने के लिए चले जाते हैं जहां उन्हें ओटीपी भेजा जाता है । इस ओटीपी की जानकारी जैसे ही व्यक्ति उन धोखेबाजों को देता है उसकी वजह से उनका फोन क्लोन हो जाता है। फोन क्लोन या फोन हैकिंग करने के पश्चात यह स्कैमर्स आसानी से उस व्यक्ति के विभिन्न अकाउंट को ऑपरेट करते हैं और फोन के माध्यम से विभिन्न प्रकार की वित्तीय ट्रांजैक्शन भी कर सकते हैं।

4. नकली QR code: 

जैसा कि हम सब जानते हैं QR कोड आजकल एक नए तरीके के रूप में इस्तेमाल किया जाता है । जहां लोग केवल qr कोड का स्कैन कर पेमेंट कर रहे हैं । वहीं इसी qr कोड का इस्तेमाल कर धोखेबाज लोग पैसे भी चुरा रहे हैं। जी हां qr कोड नकली रूप में भी बनाए जाते हैं जहां आप जब क्यूआर स्कैनर का इस्तेमाल कर पेमेंट करते हैं तो ऐसे में गलत qr कोड दिए जाते हैं। इन गलत qr कोड के वजह से आपका फोन का डाटा लीक हो जाता है और स्कैमर्स आपके फोन का इस्तेमाल कर वित्तीय ट्रांजैक्शंस कर लेते हैं।

5. UPI fraud: 

यूपीआई फ्रॉड भी आज के समय में काफी आम समस्या बन गई है । जहां एक ओर हम डिजिटल तरीकों के माध्यम से लेनदेन करने को प्राथमिकता देते हैं ऐसे में ही धोखेबाज इन्हीं लोगों को निशाना बनाते हैं। यह लोग लोगों को यूपीआई लेनदेन करने के लिए प्रेरित करते हैं और उनसे यूपीआई पिन साझा करने के लिए कहते हैं । यदि कोई व्यक्ति समय पर समझदारी  ना दिखाते हुए अपना यूपीआई पिन शेयर कर देता है तो ऐसे में स्कैमर उसे व्यक्ति के यूपीआई पिन का गलत इस्तेमाल कर लेते हैं और उनकी जमा पूंजी और मेहनत की कमाई छीन लेते हैं।

Rojgar Sangam Scheme 2023: बेरोजगार युवाओं को नए साल का बड़ा तोहफा, 72000 पदों पर होगी नियुक्ति, जानिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन !

IIFL Business Loan 2023: 30 लाख का लोन, बिजनेस आपका-लोन हमारा.. Paperless process & No collateral needed

निष्कर्ष

इस प्रकार उपरोक्त विभिन्न तरीके हैं जिसके माध्यम से आजकल विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन स्कैम  और ऑनलाइन फ्रॉड हो रहे हैं । यदि आप भी अपने साथ इस प्रकार के किसी भी फ्रॉड को होने से रोकना चाहते हैं तो आपके लिए जरूरी है कि आप जागरूक हो जाए और अपनी महत्वपूर्ण और निजी जानकारी किसी के साथ भी शेयर ना करें। यदि आप किसी भी प्रकार का संशय महसूस कर रहे हैं तो जल्द से जल्द नजदीकी पुलिस थाने में इस बारे में शिकायत दर्ज करें अथवा बैंक से संपर्क कर अपने अकाउंट को अस्थाई रूप से ब्लॉक करवा दे।

JEECUP

Leave a Comment