Ration Card New Rules 2023: उत्तराखंड राशन कार्ड के नए नियम लागू, ये काम है बहुत जरूरी

Ration Card New Rules 2023: उत्तराखंड में राशन कार्ड धारकों के लिए केंद्र सरकार ने अब एक कड़ी चेतावनी जारी की है। केंद्र सरकार ने Ration Card New Rules में बताया है कि वह सभी राशन कार्ड धारक जिन्होंने अपने Ration card biometric system Link नहीं कराया है उन्हें अब से फ्री में गेहूं चावल नहीं मिलेगा । केंद्र सरकार ने Ration Card New Rules के तहत अब इस ओर काफी सख्त रुख अपना लिया है और उत्तराखंड के खाद्य विभाग को अक्टूबर माह से प्रदेश में बायोमेट्रिक प्रणाली लागू करने के निर्देश दे दिए हैं। Ration Card New Rules के तहत फ्री राशन पाने को आपको Ration card biometric Link करना जरूरी है।

Ration Card New Rules 2023: राशनकार्ड को करना होगा लिंक

जैसा कि हम सब जानते हैं केंद्र सरकार ने काफी पहले से ही राशन कार्ड को Biometric system से जोड़ने के लिए कहा था । ऐसे में प्रत्येक व्यक्ति को बायोमेट्रिक प्रणाली से गुजरने के पश्चात ही गेहूं चावल और अन्य राशन उपलब्ध कराया जा रहा था । परंतु अब भी ऐसे कई सारे लोग हैं जिन्होंने biometric system Update नहीं कराई है और राशन कार्ड को बायोमेट्रिक मशीन से नहीं जोड़ा है।  ऐसे में राशन वितरण में होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने यह सख्त कदम उठाया है।

TNDTE Diploma Result 2023

Bihar Police Bharti 2023

UGC NET December Exam 2023 Admit Card 

Ration Card New Update: इन क्षेत्रो में नही होगा बायोमेट्रिक अनिवार्य

 केंद्र सरकार ने बताया है कि अब बायोमैट्रिक पहचान करने वाले राशन कार्ड धारकों को ही Free Ration उपलब्ध कराया जाएगा । हालांकि केंद्र सरकार ने कहा है कि नेटवर्क रहित क्षेत्र में अब भी नॉर्मल तरीके से ही राशन उपलब्ध कराया जाएगा क्योंकि कई ऐसे क्षेत्र है जहां इंटरनेट अभी भी काम नहीं करता है। ऐसे में इन क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को फिलहाल बायोमेट्रिक प्रणाली से गुजरने की आवश्यकता नहीं होगी । परंतु यदि किसी क्षेत्र में इंटरनेट काम करता है तो खाद्य विभाग को चेतावनी दी गई है कि प्रत्येक राशन वितरण केंद्र में बायोमेट्रिक प्रणाली जोड़ी जाए और प्रत्येक उपभोक्ता को बायोमेट्रिक प्रणाली अपडेट करने के लिए कहा जाए अन्यथा अक्टूबर माह से उन्हें फ्री में गेहूं चावल नहीं मिलेगा।

Ration Card biometric Link: बायोमेट्रिक प्रणाली के अंतर्गत राशन वितरण

उत्तराखंड में काफी समय से बायोमेट्रिक प्रणाली से राशन कार्ड को जोड़ने (linking ration card with biometric system) की प्रक्रिया जारी है परंतु यह प्रक्रिया काफी धीमी गति से संचालित की जा रही है । ऐसे में केवल 80% लोग ही बायोमेट्रिक प्रणाली से जुड़े हैं अन्य 20% लोग इस सिस्टम से अब भी जुड़ने बाकी है जिसकी वजह से लगभग कई राज्यों में धीमी गति पर काम चल रहा है। ऐसे में केंद्र सरकार ने उत्तराखंड राज्य सरकार को काफी समय पहले ही चेतावनी दी थी केवल इंटरनेट विहीन क्षेत्र को छोड़कर बाकी क्षेत्रों में बायोमेट्रिक प्रणाली के अंतर्गत की राशन वितरण शुरू करने के लिए कड़ा रुख अपनाने की बात भी कही थी।

PNB eMudra Loan

CISF Result 2023 

CRPF Constable Admit Card 2023

फ्री में गेहूं चावल मिलेगा या नहीं?

 हालांकि अक्टूबर माह से अब इस निर्देश पर अमल किया जाएगा और केवल इंटरनेट विहीन इलाकों में ही साधारण तरीके से राशन वितरण शुरू रखा जाएगा ।अन्य इलाकों में बायोमेट्रिक प्रणाली के माध्यम से ही राशन वितरण किया जाएगा । हाल ही में प्रदेश सचिव रुचि मोहन रयाल ने बताया है कि धीमी प्रणाली की वजह से लगभग 4 लाख से अधिक राशन कार्ड धारकों पर इसका असर पड़ सकता है क्योंकि अब भी कई ऐसे राशन कार्ड धारक है जो इंटरनेट कनेक्शन वाले क्षेत्र में होने के बावजूद भी बायोमेट्रिक प्रणाली से नहीं जुड़े हैं । और यदि बायोमेट्रिक व्यवस्था इसी माह से यदि लागू की जाती है तो लगभग 4 लाख 60000 लोगों को अक्टूबर माह में फ्री में गेहूं चावल नहीं मिल पाएगा।

 इस बात पर फिलहाल आगे कोई फैसला नहीं आया है परंतु माना यही जा रहा है कि अब भी धीमी कार्य प्रणाली की वजह से लगभग चार लाख से अधिक लोग बायोमेट्रिक प्रणाली से जुड़ने में चूक गए हैं जिसकी वजह से यदि केंद्र सरकार अपने निर्णय पर अड़ी रही तो इन लोगों को फ्री में गेहूं चावल नहीं मिल पाएगा।

राशन बांटने के लिए बायोमेट्रिक प्रणाली

उत्तराखंड में लगभग प्रत्येक सरकारी राशन की दुकानों में अब बायोमैट्रिक मशीन के माध्यम से ही खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाएगा । जिस व्यक्ति के नाम पर कार्ड दर्ज होगा उन्हीं के निशान बायोमेट्रिक मशीन में मैच किए जाएंगे और निशान मेल खाने पर उन्हें गेहूं चावल और अन्य सामग्री वितरित की जाएगी । यह पूरी प्रक्रिया प्रदेश में राशन को लेकर होने वाले धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े को रोकने के लिए शुरू की गई है। इसीलिए सरकार ने लगभग प्रत्येक दुकान में लैपटॉप और बायोमेट्रिक मशीन लगा दी है जिसके बाद अब राशन बांटने के लिए बायोमेट्रिक प्रणाली का उपयोग किया जाएगा।

हालांकि देखा जाए तो यह एक प्रकार से प्रदेश में राशन वितरण प्रणाली में पारदर्शिता लाने के लिए काफी जरूरी प्रक्रिया है, परंतु इस प्रक्रिया से अब तक काफी लोग नहीं जुड़ पाए हैं जिसकी वजह से कार्य प्रणाली की धीमी गति और अकुशलता का खामियाजा उन 4 लाख 600000 लोगों को भुगतना पड़ेगा जिन्होंने अब तक अपने राशन कार्ड को बायोमेट्रिक से अपडेट नहीं कराया है।

कुल मिलाकर सरकार द्वारा बायोमेट्रिक तरीके से राशन बांटने का तरीका बेहतर तकनीक और सकुशल कार्य प्रणाली के लिए आवश्यक जरूर है परंतु प्रदेश के अन्य वंचितों को भी जल्द से जल्द इससे जोड़ने के लिए सरकार को कोई नया  मार्ग भी निकालना होगा।

Ration Card Aadhar Link Online

जो नागरिक आधार को अपने राशन कार्ड से ऑनलाइन जोड़ना ( link Aadhar to their Ration Card online) चाहते हैं, वे इन चरणों का पालन कर सकते हैं:

स्टेप 1: सबसे पहले, अपने राज्य के आधिकारिक PDS (Public Distribution System) पोर्टल पर जाएँ।

स्टेप 2: “Link Aadhar To Ration Card” बटन ढूंढें।

स्टेप 3: अब अपना राशन और आधार कार्ड नंबर दर्ज करें।

स्टेप 4: इसके बाद अपना पंजीकृत मोबाइल नंबर दर्ज करें।

स्टेप 5: “Submit/Continue” बटन पर क्लिक करें।

स्टेप 6: आपको अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा

स्टेप 7: ओटीपी दर्ज करें और राशन कार्ड को आधार के साथ ऑनलाइन लिंक करने के लिए “Verify OTP” पर क्लिक करें। सत्यापन के बाद, आपको Ration Card Aadhar Link Request submission के बारे में एक टेक्स्ट संदेश मिलेगा।

jeecup

Leave a Comment